Breaking News
जाने 25 सबसे ताकतवर देश की लिस्ट में भारत का कौनसा स्थान। | आजमगढ़ गैंगरेप मामले को लेकर दो समुदायों के बीच तनाव। | तारक मेहता का उल्टा चश्मा ' के सुपरहिट कैरेक्टर डॉ. हंसराज हाथी का निधन हो गया है। | जनता का विरोध देख स्थानीय विधायक सुरेंद्र पारीक मोटरसाइकिल पर बैठ वहाँ से भागे | जयपुर के आसपास के इलाकों में भूकंप आया। | राजस्थान में सुखेर थाना क्षेत्र के सरे खुर्द गांव में शुक्रवार दोपहर प्रेमी युगल को निर्वस्त्र कर रस्सी से बांध कर पूरे गांव में घुमाने का शर्मनाक मामला सामने आया है। | अजमेर में भीषण सड़क हादसा, 10 की मौत, दो दर्जन से अधिक घायल | भारतीय टीम को लगा बड़ा झटका, इंग्लैंड के खिलाफ टी20 व वनडे सीरीज से बाहर हुए जसप्रीत बुमराह | प्रधानमंत्री मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधा, देश के संविधान को कुचलने और लोकतंत्र को कैदखाने में बंद करने वाला बताया। | जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों के निशाने पर आतंकियों के कमांडर, टॉप 21 आतंकियों की सूची जारी
You are here: Home / 2019 लोकसभा चुनाव में हिन्दी भाषी राज्यों में भाजपा को होगा बडा नुकसान...


  • 2019 लोकसभा चुनाव में हिन्दी भाषी राज्यों में भाजपा को होगा बडा नुकसान...

    Москва район ЗелАО купить кокаин, амф бошка меф и ск 2014 के लोकसभा चुनावों में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने चुनावप्रचार से देश की जनता को मंत्र मुग्ध कर दिया था।ऐसा लगता थाकी देश की सभी समस्याओं का हल करने वाला अवतारी पुरुष भगवान बनकर मोदी के रूप में हमारे लिए ही धरतीपर स्वर्ग से आया है।बहुत उत्साह से देश की जनता ने मोदी की भाजपा सरकार भारी बहुमत से देश में बनादी पर अब देश की जनता अपने आप को झूठे जुमलो से ठगा सा महसूस कर रही है।देश के प्रधानमंत्री मोदी के द्वारा जनता से किये वादो को पूरा होने से पूर्व ही भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह इन वादो को चुनावी झूठे जुमले करार देकर जनता की आशाओं पर तुशारापात कर देते हैं।यूपीए की मनमोहन सिंह सरकार पर भारी पेमाने पर घोटाले करने के आरोप षडयंत्र पूर्वक राजनीतिक लाभ उठाने के लिए लगाये गए।इन घोटालों मे जानबूझकर राजकोष को होने वाली हानि की राशी बढा चढा कर बताई गई।जिन आरोपों को लेकर देश के प्रधानमंत्री और उनकी पार्टी भाजपा यूपीए सरकार को कठघरे में खडा करती थी वे आरोप देश अदालतों में न्याय की कसोटी पर धारा शाही सोगये।2जी घोटाले का हश्र अदालत में खोदा पहाड़ और नाकली चुहीया साबित हो गया।इसी प्रकार कोयला खदान घोटाले का ढिढोंरा वास्तविक रूप से कहीं ज्यादा पीटा गया।इन घोटालों मे शरारतपूर्ण काल्पनिकता कासमावेश करके देश के बिकाऊ मीडिया का सहारा लिया गया था।जन लोकपाल बिल ,विदेशो मे जमा देश के कालाधन केवापस लाने के नाम पर देश की राजधानी दिल्ली में कई नाटक खेले गए।जिनकी पटकथा संघ के नागपुर मुख्यालय में लिखी गई थी।इन सभी चर्चित घोटालों की जाचंकरने वाली भारत सरकार की तोता बनी सीबीआई मोदी सरकार मे भी इनकी सत्यता देश की अदालतों में परखने पर साबित नही कर पाई।देश के प्रख्यात वकील और भाजपा नेता राम जेठमलानी ने ही अब तो देश के प्रधानमंत्री और वित्त मंत्री पर विदेशों से कालाधन वापस लाने के नाम पर देश की जनता को धोखा देने के आरोप जड दिये।देश के प्रधानमंत्री की विदेशी काला धन वापस लाने की निष्ठा पर अपनी सरकार के चार साल मे कुछ नहीं करने से सवाल खडे है।तमाम दावे जो नोटबंदी से कालाधन समाप्त करने के किये गए थे उन पर विदेशों मे जमा भारतीयों के धन के दुगुना होने से मिथ्या होने का प्रमाणहै।विदेशो मे जमा देश का काला धन तो मोदी सरकार देश में वापस नही ला पाई परन्तु देश के बेकों मे जमा देश वासियों की मेहनत का धन भी मोदी के गुजरात राज्य के सफेदपोश विदेश ले भागे।देश के प्रधानमंत्री के द्वारा बोले गए असंख्य झूठे झुमलो की भांती ही भाईयों बहनों मे देश का प्रधानमंत्री नही देश का प्रधान सेवक और चोकीदार हूं ना खाउगां ना किसी को खाने दूगां का प्रभाव भी देश की जनता ने देख लिया है।देश का प्रधान सेवक देश का सफेद धन लूटने वाले नीरव मोदी के साथ योरोप के दावोस शहर में सम्मान पूर्वक सरकारी मेहमान समझ कर मिलता है।देश का प्रधान सेवक खजाने की रक्षा करने वाला चोकीदार ही देशवासियों का धन लूटकर भागे नीरव मोदी के सम्मान में जब पलक पावडेबिछा येगा तो ये कोनसा राज धर्म है समझ नहीं आता।देश के प्रधान सेवक का नीरव मोदी के साथ खडा होकर मधुर मिलन करने को संयोग कहा जाए या फिर इसे गुजरात राज्य का विकास माडल समझ कर इसे प्रधानमंत्री का देश के विकास में एक और योगदान समझ कर मोन धारण किया जाए?झूठ और झूठे प्रचार के सहारे कर्महीन लोगों के द्वारा खडा किया विकास पुरुष का तिलिष्म अब टूट चुका है।बाबा रामदेव सरीखे सलवारी पुरुष और नागपुर के रंगीन वरंग विहीन नारगीं संतरे की भांति अन्ना हजारे के रंग बदलने के उदाहरण देश की जनता के सामने आचुके है।देश हित में क्रांतिकारी भगतसिंह बनने की हूंकार भरने वाले रामदेव की असलियत स्वदेशी भारतीय पुलिस कासामना होते ही खुल गई थी।तब भगतसिंह की भातीं देश के लिए अपने प्राण देने का झूठा दावा करने वाला रामदेव विदेशी मुगल संस्कृति की महिला सलवार पहन करमहिला वेश धारण करके अपनी जान बचाकर भागा था।तब से आज तक बाबा रामदेव विदेशी काला धन देश में लाने के बजाय स्वदेशी चंदन की लकडी कोदुश्मन देश चीन भेजकर खुद भी काला धन कमाने का पुण्य प्राप्त कर रहा है।जीएसटी नोटबंदी की मार से व्यापार जगत का बुरा हाल है।आम आदमी के जीवन को सुचारू रूप से चलाने में सरकारी नीतियां ही बाधा बन रही है।व्यापारी, छात्र किसानमजदूर सभी का जीना दूभर हो गया है सरकारी नीतियों के कारण पर सरकार हिन्दू मुस्लिम दलित स्वर्ण समाजो मे नफरत फेलाने मे परी तरह कामयाब हो रही है।भाजपा शासित राज्यों में भाजपा सरकार के मंत्री विधायक भ्रष्टाचार मे आकंठ डूबे हुए हैं और भ्रष्टाचार विहीन शासन के जुमलो जुगाली जारी है गुजरात राज्य विधानसभा चुनाव में भाजपा केंद्र सरकार के डंडे के जोर बमुश्किल सत्ता मे वापसी कर पाई है।

    हरियाणा में खट्टर सरकार का विरोध चरम सीमा पर पहुंच गया है जाट आरक्षण आंदोलन में सरकार का समर्पण करना हरियाणा की जनता को नही भाया है।जनता के जानमाल की सुरक्षा के साथ खट्टर सरकार का भ्रष्टाचार और मुख्यमंत्री की अकर्मण्यता यहां बडा मुद्दा है जिसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा।
    राजस्थान राज्य में हुए उप चुनावों में राजे सरकार के द्वारा सम्पूर्ण सरकारी मशीनरी को चुनाव में झोकने के बाद भी भाजपा चुनाव हार गयी।राज्य में भाजपा के विधायक बन्धुआ बन कर रह गए हैं जिनकी सुनने वाला भाजपा मेसुनने वाला कोई नही बचा है।उप चुनाव हारने के बाद अब सत्ता की राज माता का नशा उतरने लगा है बजरी की कालाबाजारी मे सरकार के हाथ पेर मुहं सब काले होचुके है।राज्य में जिस महारानी एलिजाबेथ का विरोध है उसके सामने भाजपा आलाकमान नतमस्तक हो गया है।यूपी में मुख्यमंत्री और उप मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और मोर्य की रिक्त लोकसभा सीटो पर भाजपा चुनाव हार गई है।केराना लोकसभा सीट के उपचुनाव में औरंगजेब जिन्ना का जिन्न भी भाजपाइयों के कोई काम नही आया।आखिरी ब्हमास्त्र के रुप मे अल्लाह और भगवान राम को चुनावी मेदान उतारने के बाद भी भाजपा चुनाव हार गई।शायद तन और मन से भ्रष्टाचार अत्याचार करके जनता से वोट देने की आशा रखने वाले भाजपाई यो के लिए जनता को बताने के लिए अपने अच्छे काम कुछ नही है इसी लिए हर चुनाव में हिन्दू मुस्लिम औरंगजेब जिन्ना के भूत को चुनावी मेदान मे लाना भाजपा की मजबूरी है।राज्य मे ओबीसी दलित मुस्लिम आबादी पर भाजपा का मनुवादी शासन कहर बरपा रहा है और योगी जी की नजरें इनायत भगवा गुन्डो पर बरस रही है।भाजपा के नेता बुरे कर्म करके अच्छे नेता बनना चाहते हैं भाई बुरे कर्मों के करने से बुरा आदमी बनता है और भले कामो से आदमी भला बनता है।मानव जीवन जीने के लिए बने जीवन स्तर के सूचकांक मे आज हमारा देश बांग्लादेश से भी पीछे खडा है।देश के नागरिकों के जीवन जीने के स्तर को बेहतर जीवन सुविधाएं देने के बजाए भाजपा की सरकारे अपने लाभ के लिए जनता को हिन्दू मुस्लिम के नाम पर भयभीत करने का काम कर रही है।राम के नाम पर समाज की मर्यादा को तार तार करने वाले ही देश धर्म भक्ति के ठेकेदार बन कर रावण राज कर रहे हैं।समाज के सभी वर्गों में भाजपा शासन से मोह भंग हो रहा है।महिला अत्याचार मे हमारा देश भाजपा के सुशासन मे विश्व में पहले स्थान पर आगया है भाजपा के विधायक ही रावण बने भजपा के राम राज में सीताओ का चीरहरण दिन दहाड़े कर रहे हैं।अपनी बेटीयो के ब्लातकारीयो को जेल भेजने की मांग करने वाले बूढे बेबस बाप को भाजपाई ब्लात्कारी विधायक भक्षक बन कर पुलिस की मदद से सीधे स्वर्ग की पावन पवित्र यात्रा पर भेज रहे हैं।सम्पूर्ण उत्तर भारत में जहां भाजपा की सरकारें है वहाँ भाजपा को बडा नुकसान होने वाला है।इस नुकसान की आशंका भाजपा के घटक दलों को भी हो रही है इसी कारण शिव सेना तेलगु देशम नीतिशकुमार के सुर भी अब बदलते हुए दिख रहे हैं।अपनी काठ की हांडी चढाने के लिए अमित शाह अब गेर हिन्दी भाषी राज्यों में हिन्दू मुस्लिम दंगो की आंच मे गरम करने हेतू निकल पडे है।पश्चिम बंगाल कर्नाटक केरल जेसै राज्यों में अमित शाह भाजपा की सम्पूर्ण शक्ति लगाकर मोटा भाई को पुनः देश का प्रधानमंत्री बनाने हेतु निकल पडे है इसके पीछे हिन्दी भाषी मतदाताओं का मोह भगंहोने का बडा कारण है।विकास के नाम पर झूठ परोसना, गोदी मीडिया के बल पर दिन रात झूठी स्टोरी चलाकर देश की बहुसंख्यक जनता को भयभीत करके शासन चलाने वाले भाजपाइयों की हकीकत अब देश की जनता समझने लगी है।कथनी और करनी का भेद भाजपाइयों को अब विकास पुरुष से ज्यादा विनाशपुरुष बना रहा है।ऐसे माहोल मे शायद भाजपा को वर्ष 2014जेसी सफलता मिलना कठिन ही नहीं बहुत दूभर भी है।बहुमत के अभाव में बनी गठबंधन सरकार के मुखिया नरेन्द्र मोदी नही कोई और होंगे यह भी तय हो चुका है।

Got Something To Say:

Your email address will not be published. Required fields are marked *

go Your email address will not be published.